जीवन में सुख पाने के लिए क्या धन का होना क्यों आवश्यक है? (Dhan ka hona kyo jaruri hai)

0
200

जीवन में सुख पाने के लिए क्या धन का होना क्यों आवश्यक है? (Dhan ka hona kyo jaruri hai) मनुष्य जीवन में कुछ चीजें ऐसी भी है, जिन्हें धन के द्वारा नहीं खरीदा जा सकता बाकी सारी चीजें पाने के लिए हम सभी को धन की आवश्यकता पड़ती है। हम सब कोई जानते हैं कि पैसा सब कुछ तो नहीं होता फिर कुछ भी खरीदने के लिए पैसा का होना बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है।

जीवन में सुख पाने के लिए क्या धन का होना क्यों आवश्यक है? (Dhan ka hona kyo jaruri hai)

हमें अपनी आधारभूत मूल आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए धन की जरूरत होती ही है। हमें अपने बच्चों की बेहतर और अच्छी शिक्षा के लिए पैसे की जरूरत तो होती है। हमें अपने अपने सामाजिक सुरक्षा के लिए भी पैसे की जरूरत होती है।

इसलिए कुछ साल पहले हमारे देश भारत में खाद्य-विपणन व्यवस्था लागु की गई थी जहां पर हम सभी अपनी जरूरत की वस्तुओं या सामान को खरीदने के लिए कोई दूसरी वस्तुओं के माध्यम से भुगतान कर रहे थे।

उदाहरण के तौर पर देखा जाय तो कोई भी किसान अपने अनाज के बदले नाई या किसी मजदूर की सेवा ले सकता था। इसी तरह से हमारे माता-पिता और पूर्वज अनाज के बदले दुकान से सामान खरीदने का काम करते थे। आज वह समय बदल गया है।

धन के बिना कोई भी कार्य असंभव

आज इस आधुनिक युग में धन का महत्व ठीक उसी तरह है जिस प्रकार से जल के बिना मछली का हाल होता होता है । इस आधुनिक युग में धन के बिना छोटे से छोटा काम का होना भी असंभव है। परंतु फिर भी धन ही सब कुछ है इस तरह से कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी। मानव का चरित्र या आचरण को ही उसका सबसे बडा धन माना जाता है। धन का होना क्यों आवश्यक है?(Dhan ka hona kyo jaruri hai)

यदि किसी आदमी के पास उत्तम चरित्र है, तो वह निश्चित ही गुणवान व्यक्ति होता है और यदि वह गुणवान है तो अवश्य ही अपने सभी कर्तव्य का पालन के लिए कुछ न कुछ धन अवश्य अर्जित कर लेता होगा।

विभिन्न प्रकार के भौतिक कार्यों के लिए धन की आवश्यकता पड़ती ही रहती है ¨व्यक्ति के पास जब उत्तम विचार, आदर्श चरित्र और मन में सदाचार तथा उसे संस्कार की बात आती है, तब वहां धन की थोड़ा कम हो जाती है।

इस प्रकार के बहुत से व्यक्तियों के उदाहरण हैं, जो धन का अभाव रहने पर भी अपना चरित्र और काम निष्ठा के बल पर बहुत प्रसिद्ध हुए और वे हमेशा दूसरों के लिए आदर्श बनें रहे । अंतत: यही निष्कर्ष निकल कर आता है कि धन हमारे जीवन में बहुत कुछ है, पर सब कुछ नहीं है । धन का होना क्यों आवश्यक है?(Dhan ka hona kyo jaruri hai)

धन जीवन की आधारभूत जरूरत है

धन हमारे जीवन की सबसे महत्वपूर्ण आधारभूत आवश्यकता है, धन के बिना कोई भी अपने दैनिक जीवन की आधारभूत आवश्यकताओं को कभी भी पूरा नहीं कर सकता। हमें धन के महत्व की तुलना कभी भी प्यार और देख भाल के महत्व से नहीं करना चाहिए हैं।

जब किसी व्यक्ति को धन की आवश्यकता हो जाती है, तो उसे प्यार से कभी पूरा नहीं किया जा सकता है और उसके विपरीत यदि किसी को प्यार की आवश्यकता होती है, तो उसे धन से कभी पूरा नहीं किया जा सकता है।

दोनों की स्वस्थ जीवन के लिए धन की बहुत अधिक आवश्यकता होती है लेकिन भी दोनों का जीवन में अलग-अलग महत्व होते है। हमें दोनों व्यक्ति की ही तत्काल आवश्यकता है, इस वजह से उन दोनों को समान पैमाने पर नहीं माप सकते हैं।

बाहरी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए धन जरूरी है

धन हमारे जीवन में बहुत ही आवश्यक वस्तु बन गई है हालांकि, धन समय, प्यार और सच्ची देखभाल जैसी चीजों को कभी नहीं खरीद सकता है। धन केवल एक आदमी की बाहरी आवश्यकताओं की पूर्ति भर कर सकता है, न कि मनुष्य की आंतरिक आवश्यकताओं को जैसे की प्यार ।

आधुनिक समय में हर चीज महंगी हो गई है लेकिन भी उन्हें खरीदना साधारण जीवन जीने के लिए बहुत ही आवश्यक हो जाती है। यदि हम लोगों के पास धन नहीं होगा तो हमारी स्थिति किस प्रकार होगी, इस कड़वा सत्य की कोई व्यक्ति कल्पना भी नहीं कर सकता है ।धन का होना क्यों आवश्यक है? (Dhan ka hona kyo jaruri hai)

धन कमाने के लिए मेहनत जरूरी है

हमें अपने समाज में अपने पद और स्थिति को बनाए रखने के लिए धन की बहुत आवश्यकता होती है। मनुष्य को खाना खाने या पानी पीने, कपड़े पहनने, स्कूल में प्रवेश लेने के लिए, दवा लेने के लिए या अस्पताल में इलाज कराने के लिए या फिर अन्य गतिविधियों के लिए, हम सभी को बहुत अधिक धन की आवश्यकता होती है।

अब यह सवाल मन में उठता है कि, इस आवश्यक धन को कैसे प्राप्त किया जा सकता है। इसके लिए हमें उच्च स्तरीय पढ़ाई और कठिन मेहनत करनी पड़ती है, ताकि, हमें अच्छी नौकरी मिल सके।

धन के अभाव में इच्छापूर्ति असंभव है

यदि किसी भी व्यक्ति के पास धन है, तो वह अपने दैनिक जीवन में अपनी सभी इच्छाओं को पूरा कर सकता है, जो उनके व्यक्तित्व के विकास, आत्म विश्वास में सुधार, विश्वसनीय, योग्यता में वृद्धि, क्षमता में वृद्धि और साहस में बहुत बड़े स्तर पर वृद्धि करने में मदद कर सकता है।

बिना धन के हम इस संसार में नि:सहाय और अकेला महसूस करने लग जाते हैं, जहां कोई भी हमारी मदद और सहायता व सुझाव देने के लिए सामने नहीं होता है ।

धन क्यों जरूरी है?

धन हमारे जीवन की सबसे आधारभूत आवश्यकता में से एक है, जिनके बिना कोई भी आदमी अपने दैनिक जीवन की आधारभूत आवश्यकताओं को पूरा नहीं कर सकता है। हम सभी को धन के महत्व की तुलना कभी भी प्यार और देखभाल के महत्व से नहीं करना चाहिये । धन का होना क्यों आवश्यक है?

जब भी किसी को धन की आवश्यकता होती है, तब उसे प्यार से पूरा नहीं किया जा सकता और उसी तरह से यदि किसी को प्यार की आवश्यकता होती है, तो उसे धन से पूरा कभी नहीं किया जा सकता। दोनों की ही स्वस्थ जीवन के लिए धन की बहुत अधिक आवश्यकता होती है, क्या आप एक विद्यार्थी हैं यहां पर क्लिक करें

निष्कर्ष

मैं इस पोस्ट के जरिए जीवन में सुख पाने के लिए धन की आवश्यकता क्यों होती है, इसके बारे में पूरा विस्तार से बताया है। पढ़ने के बाद यदि आपको यह पोस्ट अच्छा लगा, तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें, यदि पोस्ट में कोई कमी रह गई है , तो कमेंट करके हमें जरूर आगाह करें, ताकि मैं उन्हें सुधारने का प्रयास करूंगा धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here