लोन क्या है? (Loan Kya Hai) l लोन से संबंधित सम्पूर्ण ज्ञान अवश्य लें 2022

0
11

लोन क्या है? (Loan Kya Hai) l लोन से संबंधित सम्पूर्ण ज्ञान अवश्य लें- अगर आप बैंक से लोन लेना चाहते है और इसके बारे में जानना चाहते हैं की लोन क्या है (Loan Kya Hai In hindi)? और इसको कैसे लें तो यह पोस्ट आपके लिए बहुत ही फायदेमंद साबित होने वाली है. अक्सर आपने बहुत लोगों के मुँह से लोन के बारे में जरूर सुना होगा और वह बैंक में लोन लेने के लिए अप्लाई भी किया होगा और आवेदन मंजूर हो जाने के बाद उन्हें लोन के पैसे भी मिल चूका होगा . तो चलिए ये लोन के बारे में जल्दी से समझ लें की Loan Kya Hai?

Loan (कर्ज) को हिंदी में ऋण भी कहा जाता हैं, किसी एक व्यक्ति या फिर किसी संस्था या संगठन द्वारा दिए उधार का रूप है. उधार देने वाली एक वित्तीय संस्था, सरकारी संस्था, या निजी संस्था भी हो सकती है, जो किसी individual व्यक्ति या समूह को लोन प्रदान करती है.

लोन क्या है? (Loan Kya Hai) l लोन से संबंधित सम्पूर्ण ज्ञान

हमारे भारत जैसे देश में ज्यादातर लोग मिडिल class family वाले होते हैं. चाहे उसे घर बनाना हो, पढाई करनी हो, कार लेना हो middle class के परिवार के लिए इतना आसान नहीं होता है, की वो ये सब अपने खुद के कमाए पैसे से इस तरह का काम कर सके. ऐसी स्थिति में उनके इन सभी कार्यों को पूरा करने के लिए बैंक या कही से पैसे उधार (Loan) लेना पड़ता ही है.

Loan लेने के बाद हर उन्हें हर महीने अपनी कमाई करके चूकाते रहना होता हैं और कुछ एक्स्ट्रा ब्याज के पैसे देकर अपने लिए हुए लोन को समाप्त करना हैं. यदि परिवार में एक से अधिक बच्चे बच्चियां हो तो हर बच्चे की अच्छी शिक्षा के लिए माता पिता को काफी मुश्किलों का सामना करनी पड़ती है. यही सब वजह है की लोन इस तरह के परिवारों की मदद करती है.

इसके अलावा इसी तरह की अन्य कई जरुरत भी होती है, जो एक Common man के लिए मुश्किल होता है, और बैंक से मिलने वाले लोन से वह पूरा करते हैं लेकिन क्या आप सभी को पता है, की यह loan कितने प्रकार होते हैं (types of loan in hindi)

ऐसे बहुत ही एजेंट आपके पास भी कभी न कभी जरुर आते ही होंगे, लेकिन क्या आप जानते हैं की आखिर ये Loan Kya Hai ? क्यों अब Loan इतने आसानी से लोगों को प्रदान किया जा रहा है? Loan कितने प्रकार होते हैं? यदि आप सभी के मन में भी ये सवाल हलचल मचा रहे हैं तो आपको यह पोस्ट लोन क्या होता हैं (Loan Kya Hai in Hindi) को पूरी तरह से जरुर पढना चाहिए क्यूंकि इससे आपको loan के बारे में बेहतर रूप से समझने में आसानी हो जायेगी.

जब भी आपके मन में Loan का ख्याल आता है, तब मन में Banks का ख्याल जरुर ही आता होगा. और आये भी क्यूँ नहीं , क्योकि आज के वर्तमान समय में यदि आपको Loan की आवश्यकता होता है, तब आपको Banks के पास ही तो जाना होता है।

लोन क्या है – What is Loan in Hindi

Loan हमारे लाइफ को बहुत ही आसान बना देता है. आज के वर्तमान समय में लोन का direct connection Banks से ज्यादा होता है. ऐसा इसलिए क्यूंकि Banks ही वो वित्तीय संस्थाए होते हैं जो की आप को Interest (ब्याज ) के साथ Loans(ऋण ) प्रदान करते हैं. वहीँ वो बहुत ही safe और secure तरीके से आपको जल्द ही Loans प्रदान कर देते हैं.

यदि आप अभी तब कभी Loan नहीं लिए है तो आपको शायद इसके महत्व के विषय में ज्यादा जानकारी नहीं होगा। इसकी जरुरत कब होती है चलिए उसको सबसे समझते है।

जब मनुष्य को पैसों की बहुत अधिक जरुरत होती है जैसे की किसी व्यक्ति को बड़े रोग का इलाज करना हो, बच्चों की शादी करनी हो, आपना घर बनना हो या अपने बच्चों की पढाई के लिए, तब इस तरह जगहों में Loans ही एकमात्र उस व्यक्ति का सहारा बनकर खड़े होते हैं, वहीँ दोस्त हो या रिश्तेदार से इतने बड़े रकम माँगा भी नहीं जा सकता है. तथा वे लोग देने से भी इंकार कर सकते है,अब एक मात्र रास्ता सिर्फ Bank ही है जो उनसे loan लेने का रास्ता बचा हुआ है.

Loans जरुरत के समय में किसी भी व्यक्ति के लिए बहुत ही उपयोगी चीज़ साबित होती है, वहीँ पर यदि आप उसे वापस करने में असमर्थ हैं तो इससे दूर ही रहना बढ़िया है.

लोन के अंग क्या हैं?

Loan के मुख्यतः तीन अवयव होते हैं, जो इस प्रकार हैं –
1. Principal या borrowed amount या Loan में लिया गया amount
2. Rate of interest या ब्याज का दर
3. Loan का duration या कब तब के लिए आपने loan लिया है

1. Principal

जब कभी भी आप किसी से loan लेते हैं चाहे वो bank हो, या कोई financial institution हो या फिर कोई व्यक्ति हो, तब जो भी amount आप उनसे लेते हैं उसे amount Principal Amount या Loan amount कहा जाता है. ये वह मूलधन है जिसे लोन लेने वाले व्यक्ति को व्याज के साथ वापस करना होता है .

2. Rate of interest या ब्याज का दर

अब चलिए बात करते हैं ब्याज का दर (Rate of Interest) बारे में , यह वो ब्याज दर होता है जो की मूलधन (Principal amount) में add हो जाता है और जैसे-जैसे समय बीतता चला जाता है. वैसे-वैसे बढ़ता चला जाता है.

आपको कोई बिना interest के तो पैसे नहीं देगा नहीं इसलिए जो भी interest (ब्याज) आपके loan amount के साथ जुड़कर आता है वह अंत में जब आप loan वापस करने के लिए जाते हैं तो आपको इंट्रेस्ट के साथ लौटना होता है वही interest को ही rate of interest amount कहा जाता है.

3. Loan का duration

चलिए अब जानते हैं loan का duration क्या होता है,या कहे की लोन की समय सिमा के बारे में, जब आप किसी से loan लेते हैं तो वह आप को कभी भी न लौटाने का वादा तो कभी नहीं करेगा इसलिए आपके सामने एक समय सीमा जरूर रखेगा है, जिस समय सीमा के अन्दर आपको उसका पैसा वापस कर देना होगा, इसी समय सीमा को ही Loan का duration कहा जाता है.

लोन के प्रकार – Types of Loan in Hindi

अब चलिए समझते हैं लोन के प्रकार – Types of Loan in Hindi के बारे में, लोन के जितने भी प्रकार है उन सभी को नीचे विस्तार से चर्चा की गई है जिन्हे अध्ययन करने के बाद आपको जरूर समझ में आ जायेगा वह इस प्रकार है –

  • Home Loan
  • Car Loan
  • Education Loan
  • Personal Loan
  • Business Loan
  • Gold Loan

लोन क्या है? (Loan Kya Hai) सम्पूर्ण जानकारी

1. Personal Loan

Personal Loan (पर्सनल लोन) एक अन-सिक्योर्ड (असुरक्षित) लोन होता है,इसका मतलब है की इसके लिए उधारकर्ता को किसी प्रकार की कोई गारंटी/ सिक्योरिटी देने या कुछ गिरवी रखने की ज़रूरत नहीं होती है। इस प्रकार के लोन की भुगतान अवधि खास तौर पर 12 से 60 महीनों के बीच करीब होती है।यह होम लोन या कार्ड लोन के बिलकुल विपरीत होती है, इस प्रकार के लोन का उपयोग किसी भी तरह की अपनी ज़रूरत को पूरा करने के लिए किया जाता है जैसे- मेडिकल इमरजेंसी के लिए , पढ़ाई का खर्च के लिए, ट्रेवल के लिए और शादी के लिए भी कर सकते है ।

पर्सनल लोन की विशेषताएँ और लाभ

(a) Loan बिना कुछ गिरवी रखे मिलेगा
(b) 40 लाख रु. तक का Loan मिल सकता है, और भी बढ़ सकता है लेकिन Bank पर निर्भर करता है
(c) किसी भी Work के लिए इसे उपयोग किया जा सकता है
(d) भुगतान अवधि 60 Manths तक होगी, बढ़ भी सकती है
(e) न्यूनतम paperwork

2. Education loan

एजुकेशन लोन क्या है? किसी भी प्रकार की उच्च शिक्षा के लिए किसी भी बैंक से या निजी संस्थान से जो लोन लिया जाता है, वैसे ही लोन को स्टूडेंट लोन (Student Loan) या एजुकेशन लोन (Education Loan) कहा जाता है. इस प्रकार के लोन को प्राप्त कर कोई भी छात्र- छात्राएं अपनी उच्च शिक्षा का सपना आसानी से पूरा कर सकते है. अगर आप भी विदेश मे पढ़ाई करना चाहते हैं, तो आप भी किसी बैंक के टर्म्स और कंडिशंस का पालन करते हुए आसानी से लोन प्राप्त कर सकते हैं.

3. Home loan

अगर आपके पास घर खरीदने के लिए रकम या पैसा नहीं है तो बैंक या नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियां (NBFC) के द्वारा आपको लंबी अवधि का Loan (कर्ज ) मिल जाएगी .

होम लोन क्या है?

अपना प्यारा घर हर एक व्यक्ति का सपना होता है. यह वित्तीय सुरक्षा व्यक्ति को आयकर में राहत, इमरजेंसी में सपोर्ट और अपनी पसंद के हिसाब से खुश रहने की सुविधा प्रदान करता है.

अगर आपके पास घर खरीदने के लिए रकम या money नहीं है तो बैंक या नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियां (NBFC) आपको लंबी अवधि के लिए कर्ज देती हैं. उसके बाद आपको मासिक क़िस्त के रूप में एक निश्चित रकम बैंक या नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियां (NBFC) को चुकता करते हुए आप को 10, 20 या 30 साल की अवधि के बीच में कर्ज की मूल रकम और ब्याज को लौटा देना होता है इसे ही होम लोन कहा जाता है.

होम लोन अपने प्यारे घर का सपना पूरे करने में व्यक्ति को काफी मददगार साबित होता है. बस आपको घर की कुल लागत का सिर्फ 10 या 15 फीसदी रकम जुटाने की जरूरत होती है .

डाउनपेमेंट करने के बाद ही आप अपने जॉब या बिजनेस से प्राप्त आमदनी के आधार पर अपना घर खरीदने के लिए बैंक या नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियां (NBFC) से होम लोन आसानी ले सकते हैं.

4. Car loan या Vechile Loan

यदि आप एक बढ़िया car या गाड़ी की चाहत रखते है तो वह सभी पूरा हो सकती है लेकिन उसे खरदने के लिए हमारे पास पर्याप्त धन राशि नहीं होती है इस वजह से बहुत समय लग जाता है . वैसे तो आज कल गाड़ी खरीदना एक बड़ी स्वाभिमान की बात मानी जाती है, वहीँ इसके बहुत से advantages भी मौजूद हैं जैसे की यह आपको परिवहन की सुविधा प्रदान करती है, आपकी convenience और functionality को भी बढ़ावा देती है.

ऐसे में अगर आप एक car loan लेना चाहते हैं तो आप आसानी से ले सकते हैं। क्यूंकि इस प्रकार के बहुत से banks हैं जो की car loans offer करती करती रहती है वो भी attractive interest rates पर और benefits के साथ भी. वहीँ पर यदि आप एक साथ pay नहीं करना चाहते हैं तो आप को EMIs का option चुनना होगा हैं loan चुकाने के लिए.

5. Business Loan

Business Loan, बिजिनेस को सुचारू रूप से चलने के लिए लिया जाता है उसमें आपको बहुत से investment करने की जरूरत होती है, उनकी start-up expenditures या business extensions को pay करने के लिए. ऐसे कामों के लिए, companies को business loans लेने की आवश्यकता पड़ती है उनके वित्तीय सहायता के लिए.

ये सभी असल में देखा जाय तो एक उधार ही होता है, जिसे की आपको company को एक विशिष्ट कार्यकाल के बाद वापस करना ही होता है. इस प्रकार की business loans को आप बहुत से कार्यों के लिए भी ले सकते हैं, जैसे की नयी फॉर्म की शुरुवात करने के लिए, business expansion के लिए, dealer और vendor को finance करने आदि के लिए .

6. Gold Loan

क्या है गोल्ड लोन? गोल्ड लोन एक तरह का सुरक्षित लोन होता है, जहां पर आपको लोन की राशि के लिए गोल्ड को सिक्योरिटी के तौर पर गिरवी रखने के लिए दिया जाता है। Gold Loan का भुगतान हो जाने तक बैंकों या गोल्ड लोन देने वाली संस्थाओं द्वारा इसे सुरक्षित अपने लॉकर में रखा जाता है।

क्योकि गोल्ड आपातकालीन और अल्पकालिकभी होता है,इसलिए इसे कम समय के लिए ही दिया जाता है। यह किसी आकस्मिक या तत्काल जरूरत में काम आने वाला एक इमरजेंसी फंड की तरह काम करता है, जो बहुत ही लो इंटरेस्ट पर मिलता है।

हमें इसकी आवश्यकता जब परिवार में किसी बच्चे बच्चियां की हायर एजुकेशन, शादी-ब्याह, घर की मरम्मत, मेडिकल इमरजेंसी, ट्रैवल, डाउनपेमेंट आदि करने के लिए कर सकते है। इसकी हाई वैल्युुएशन होने के कारण सोना को बेहद ही कम समय में कैश में कैश के रूप में बदला जा सकता है।

जब ऐसी आपात स्थिति में पैसे की आवश्यकता को पूरा करने के लिए गोल्ड लोन आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है। गोल्ड लोन सोने की प्योरिटी और उसके वैल्यू के आधार पर ही दिया जाता है।

7. TERM LOAN

TERM LOAN का समय, अवधि या मियाद आदि से सम्बन्ध होता है? यानी कि समझ लीजिये की जो लोन आपको दिया जायेगा वह एक निश्चित समयावधि (for a fixed time period) के लिए ही होता है, और जिसका भुगतान आपको एक निश्चित किस्तों में करना होता है, उसे ही Term Loan लोन कहते हैं।

यदि इसे हिंदी कहे तो हम इसे सावधि ऋण कहते हैं, और उर्दू में इसका मतलब हो जाता है मियादी कर्ज, देखा जाय तो Term Loan 1 साल से 10 साल तक के अवधि के लिए होता है।

जिस प्रकार होम लोन या कुछ अन्य मामलों में यह 30 साल तक के लिए भी हो सकता है। यह भारतीय बैंकिंग के अनुसार इस प्रकार के लोन को टर्म लोन में शामिल किया जाता है, जिनकी कम से कम 1 साल तक किस्तें चुकानी पड़ती ।

इस प्रकार के लोन के किस्तों का भुगतान, मासिक (month), तिमाही (quarterly) या वार्षिक (annually) समय अंतराल के आधार पर हो सकता है।

लोन के फायदे

चलिए Loans के features और benefits के विषय में भी जानते हैं.

1. Financial Flexibility का होना :- Loans आपको financial flexibility प्रदान करता है. जो आपके जरुरत के समय में आपको financial रूप में मदद प्रदान करता है. वहीँ पर आप एक loan लेने से आपको कुछ हद तक financial freedom भी प्रदान करता है और उसके साथ में आपके रोजमर्रे जीवन के expenses को सही तरीके से भी संभालता भी है, वहीँ पर देखा जाए तो आपके planned budget को इधर उधर नहीं होने देता है.

2. आसान availability:- सभी प्रकार के loans ज्यादातर देखा जाए तो करीब 48 hours के भीतर ही approve हो जाते हैं, शर्त बस इतना है की आप सभी जरुरी documents पहले से ही जमा कर दिए होने चहिये. ऐसा यदि है तो आप आसानी से लोन प्राप्त कर सकता है.

3. जरुरत का amount प्राप्त होना :- आपके income और financial history के आधार पर, आपको अपने जरूरत के पैसे मिल जाते हैं.और आप उन्ही अपनी जरुरत के अनुसार उपयोग कर सकते है।

4. Convenient tenure का होना :- Loans लेते समय ही आप अपने अनुसार चुनाव कर सकते हैं की आप कितने समय सीमा के अंदर loan को चूका सकते हैं. ज्यादातर समय में Loans आपको 12 months से लेकर 60 months तक के लिए दिया जाता हैं.

5. Tax Benefits में फायेदा :- Income Tax Act of 1961 के अनुसार, प्राय सभी प्रकार के loans में आप को tax benefits की सुविधा आसानी से प्राप्त हो जाती है.

लोन लेने के मुख्य कारण क्या हैं?

1. Life Goals को पूर्ण करने के लिए
2. Immediate financial requirements के होने से
3. किसी financial arrangement को ठीक तरीके से करने के लिये

लोन अप्लाई करने से पहले किन चीज़ों का ध्यान रखना आवश्यक होता है?

Loan लेना तो आसान बात है लेकिन उससे पहले आपको कुछ महत्वपूर्ण चीज़ों पर जरुर ध्यान देना चाहिए क्यूंकि इसको नहीं जानने की वजह से आपको बाद में पछताना भी पड़ सकता है. इसलिए इन पहलुओं पर आपको ध्यान देना बहुत जरुरी हो जाता हैं.जो नीचे अंकित है –

(a) Credit score
(b) Rate of Interest
(c) Processing fee और दुसरे charges
(d) Research करें अपने loan का best rate पाने के लिए
(e) Loan लेने की Eligibility

वेतनभोगी के लिए विवरण:-

1. Age(Min-Max) – 23 years से 58 years
2. Income – Rs.25000
3. CIBIL Score- Above 750

स्वरोजगार के लिए विवरण :-

1. Age(Min-Max) – 28 years से 65 years
2. Income – Minimum turnover हो Rs.40 lakhs
3. CIBIL Score – Above 750

वेतनभोगी के लिए Documents का विवरण :-

1. Application form photograph के साथ
2. Identity और Residence proof
3. Last 6 months का bank statements
4. Processing fee cheque
5. Latest Salary Slip
6. Form 16

स्वरोजगार के लिए Documents का विवरण :-

1. Application form photograph के साथ
2. Identity और Residence proof
3.Last 6 months का bank statements
4. Processing fee cheque
5. Proof of Business
6. Business Profile और Previous 3 years Income Tax returns (self and business)Previous 3 years Profit/Loss और Balance Sheet

आज आपने क्या सीखा

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह पोस्ट लोन क्या है (What is Loan in Hindi) जरुर पसंद आया होगा. मेरी हमेशा से यही प्रयास रहता है की पाठकों को लोन क्या है के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के पढ़ने या खोजने की जरुरत ही नहीं हो . इससे आपकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभीजानकारी भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी संदेह हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तो इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here