सबसे महत्वपूर्ण आर्थिक शब्दावली का परिभाषा भाग-1 (important economic terminology)

0
32

सबसे महत्वपूर्ण आर्थिक शब्दावली का परिभाषा (important economic terminology) के इस पोस्ट में (1 से 70) तक में आप सभी को इनसे जुड़ी जितने भी शब्द हैं, उन सभी शब्दों को इस पोस्ट पर परिभाषित किया गया है, जिसमें आपको बैंक, फाइनेंस, मुद्रा, आदि से संबंधित सभी तरह के शब्दों का विस्तार से विश्लेषण किया गया है, जिसे पढ़ने के बाद आपका नॉलेज का काफी हद तक विस्तार होने वाला है, इसलिए इस ब्लॉग पोस्ट को कृपया करके पूरा पढ़ें-

सबसे महत्वपूर्ण आर्थिक शब्दावली का परिभाषा (important economic terminology)

📚1 मुदा अवमूल्यन (Money Devaluation)

यह कार्य सरकार द्वारा किया जाता है। इस क्रिया से मुद्रा का केवल बाह्य मूल्य कम होता है। जब देशी मुद्रा की विनिमय दर विदेशी मुद्रा के अनुपात में अपेक्षाकृत कम कर दी जाती है, तो इस स्थिति को मुद्रा का अवमूल्यन कहा जाता है।

📚2 रेंगती हुई मुद्रास्फीति (Creeping Inflation)

मुद्रास्फीति का यह नर्म रूप है। यदि अर्थव्यवस्था में मूल्यों में अत्यंत धीमी गति से वृद्धि होती है तो इसे रेंगती हुई स्फीति कहते हैं। अर्थशास्त्री इस श्रेणी में एक फीसदी से तीन फीसदी तक सालाना की वृद्धि को रखते हैं। यह स्फीति अर्थव्यवस्था को जड़ता से बचाती है।

📚3 रिकॉर्ड तारीख (Record List)

बोनस शेयर, राइट शेयर या लाभांश आदि घोषित करने के लिए Company एक ऐसी तारीख की घोषणा करती है जिस तारीख से रजिस्टर बंद हो जाएंगे। इस घोषित तारीख तक Company के रजिस्टर में अंकित प्रतिभूति धारक ही वास्तव में धारक माने जाते हैं। इस तारीख को ही रेकॉर्ड तारीख माना जाता है।

📚4 रिफंड ऑर्डर (Refun Order)

यदि किसी शेयर आवेदन पत्र पर शेयर आवंटन की कार्यवाही नहीं होती तो Company को आवेदन पत्र के साथ संपूर्ण रकम वापस करनी होती है। रकम वापसी के लिए Company जो प्रपत्र भेजती है उसे रिफंड ऑर्डर कहा जाता है। रिफंड ऑर्डर चेक, ड्राफ्ट या बैंकर चेक के रूप में होता है तथा जारीकर्ता Bank की स्थानीय शाखा में सामान्यत: सममूल्य पर भुनाए जाते हैं।

📚5 लाभांश (Dividend)

विभाजन योग्य लाभों का वह हिस्सा जो शेयरधारकों के बीच वितरित किया जाता है, लाभांश कहा जाता है। यह करयुक्त और करमुक्त दोनों हो सकता है। यह शेयरधारकों की आय है।

📚6 लाभांश दर (Dividend Rate)

Company के एक शेयर पर दी जाने वाली लाभांश की राशि को यदि शेयर के अंकित मूल्य के साथ व्यक्त किया जाए तो इसे लाभांश दर कहा जाता है। इसे अमूमन फीसदी में व्यक्त किया जाता है।

📚 7लाभांश प्रतिभूतियां (Dividend Securities)

जिन प्रतिभूतियों पर प्रतिफल के रूप में निवेशक को लाभांश मिलता है, उन्हें लाभांश वाली प्रतिभूतियां कहा जाता है। जैसे समता शेयर, पूर्वाधिकारी शेयर।

📚8 शून्य ब्याज ऋणपत्र (Zero Rated Deventure)

इस श्रेणी के डिबेंचरों या बॉन्डों पर सीधे ब्याज नहीं दिया जाता, बल्कि इन्हें जारी करते वक्त कटौती मूल्य पर बेचा जाता है और परिपक्व होने पर पूर्ण मूल्य पर शोधित किया जाता है। जारी करने के लिए निर्धारित कटौती मूल्य के अंतर को ही ब्याज मान लिया जाता है।

📚 9असंगठित क्षेत्र के उद्यम (informal sector enterprises)

10 से कम श्रमिकों की संख्या वाले निजी क्षेत्र के उद्योग।

📚10 अदृश्य मदें (Invisible items) :- पर्यटन, जहाजरानी, वायु परिवहन, बीमा बैंकिंग, वित्तीय सेवाएं, सरकारी अनुदान, ब्याज, लाभ एवं लाभांश आदि चालू खाते की मदें जो सामान्यत: वस्तु के रूप में दिखाई नहीं देती है।

महत्वपूर्ण आर्थिक शब्दावली का परिभाषा (important economic terminology)
महत्वपूर्ण आर्थिक शब्दावली का परिभाषा (important economic terminology)

अनारक्षण (Dereservation)  : किसी व्यक्ति या उद्योग समूह को उन वस्तुओं के उत्पादन की छूट देना जो पहले किसी व्यक्ति या उद्योग समूह के लिए आरक्षित हो।

📚11 अवमूल्यन (Devaluation) :- मुद्रा की विनिमय दर में गिरावट आना जिसके कारण विदेशी मुद्राओं की इकाइयों के रूप में आंतरिक मुद्रा की कीमत कम हो जाती है जिससे निर्यात सस्ते व आयात महंगे हो जाते हैं l

📚12अवसर लागत (Opportunity cost) :- यह किसी कार्य मूल्य मान के संदर्भ में परिभाषित की जाती है और अस्वीकार किए गए विकल्प के मूल्य के समान होती है l

सबसे महत्वपूर्ण आर्थिक शब्दावली का परिभाषा विस्तार में (important economic terminology)

📚13 आस्कमिक दिहाड़ी मजदूरी (Casual wages Labourer) :- वैसे दैनिक मजदूर जो किसी उपक्रमों या खेतों में दैनिक मजदूरी के लिए काम करते है।

📚 14 अपेक्षित मुद्रास्फीति (Anticipated inflation) :- व्यवसायिक इकाइयों, श्रमिक संघ के पदाधिकारियों तथा उपभोक्ता द्वारा भविष्य में घटित होने वाली मुद्रास्फीति की दर अपेक्षित मुद्रा स्थिति कहलाती है।

📚15 अनुषंगी हितलाभ (fringe benefit) :- किसी नियोक्ता द्वारा अपने कर्मचारियों को दी जानेवाली वे सुविधा जो निर्धारित वेतन के अलावा प्रदान की जाती है।

📚16 अवस्फीति (Deflation) :- किसी अर्थव्यवस्था में उत्पादित वस्तुओं की पूर्ति मुद्रा की पूर्ति से अधिक होती है, तो वस्तु की कीमत में गिरावट आती है, इससे मुद्रा का वास्तविक मूल बढ़ जाता है, परंतु इस दशा में कीमतों में गिरावट होने से वस्तुओं के उत्पादन में गिरावट होती है और कम उत्पादन होने से रोजगार में भी गिरावट आने लगती है l

📚17 अल्पाधिकार (Oligopoly) :- बाजार में फर्मों की संख्या इतनी कम होती है कि उनके बीच निर्णय संबंधी पारस्परिक निर्भरता बनी रहती है और यह निकट स्थानापन्न वस्तुओं का उत्पादन करती हैं, जिससे बाजार में कड़ी प्रतिस्पर्धा उत्पन्न होती है।

📚18 अनिवासी रुपया Account (Non resident rupee account) :- इसमें अनिवासी भारतीय द्वारा वाणिज्य Banks में भारतीय रुपए में Account खोला जाता है तथा इन खातों के मूलधन एवं व्याज को बिना किसी करके जमाकर्ता को उसके देश में उसकी मुद्रा में वापस कर दिया जाता है।

📚19 अग्रामी दर (Forward rate) :- मुद्रा विनिमय की इस प्रक्रिया में कोई मुद्रा अग्रवर्ती बाजार में भविष्य में हस्तांतरण के लिए जिस दर पर खरीदी या बेची जाती है।

📚20 अनुदान (Subsidy)  :- सरकार द्वारा किसी उद्योग या व्यापार को किया गया वह भुगतान जिससे निर्यातक उद्योग को प्रोत्साहन प्राप्त हो या उत्पादित वस्तु की घरेलू बाजार में कीमत ना बढ़े इससे उद्योग व उपभोक्ता दोनों को लाभ पहुंचता है।

📚21 अति इष्ट राष्ट्र (Most Favored Nation)  :- किसी देश द्वारा किसी अन्य देश को आयात निर्यात के संबंध में शुल्क में रियायत तथा अन्य सुविधा प्रदान करना।

📚22 अनौपचारिक क्षेत्र (Informal sector) :- छोटे-मोटे श्रम प्रधान स्वरोजगार में लगे हुए लोगों द्वारा अर्थव्यवस्था में अप्रत्यक्ष योगदान देने वाला क्षेत्र।

📚23 अनुपार्जित आय (Unearned income) :- चालू वर्ष में प्राप्त व्यक्ति आय जिसका चालू वर्ष से कोई संबंध नहीं होता है।

📚24 अमूर्त संपत्तियां (Intangible assets) :- वैसे संपत्तियां जिनका मूल्य स्वामित्व के अधिकार से जुड़ा होता है जैसे पेंटेड, कॉपीराइट, ट्रेडमार्क आदि।

– किसी Company द्वारा शेयर जारी करने के संबंध में पूंजी की अधिकतम सीमा यह अधिकृत पूंजी के बराबर या उससे कम हो सकती है लेकिन उससे अधिक नहीं।

भारतीय अर्थव्यवस्था – महत्वपूर्ण आर्थिक शब्दावली सेट 2

महत्वपूर्ण आर्थिक शब्दावली का परिभाषा भाग-1 (important economic terminology)
महत्वपूर्ण आर्थिक शब्दावली का परिभाषा भाग-1 (important economic terminology)

📚25 अनुसूचित व्यापारिक बैंक (Scheduled commercial bank) :- कुछ विशेष शर्तों के अधीन रिजर्व Bank की दूसरी अनुसूची में शामिल वाणिज्य Bank।

📚26 अग्रणी बैंक (lead bank) :- इस व्यवस्था की शुरुआत 1969 में की गई थी ,इसके तहत प्रत्येक जिले में किसी एक वाणिज्य Bank को विशिष्ट कार्यक्रमों के संचालन विकास कार्य के लिए ऋण प्रदान करने वित्तीय संस्थाओं के बीच समन्वय का कार्य सौंपा जाता है।

📚27 आंतरिक अर्थव्यवस्था का एकीकरण (Integration of Domestic economy) :- वैसी सरकारी नीति का निर्माण करना, जिसने अन्य देशों के साथ स्वतंत्र व्यापार और निवेश में वृद्धि हो सके तथा देश की व्यवस्था विश्व के संबंध में निर्भरता एवं एकता के साथ जुड़ सके।

📚28 आयात प्रतिस्थापन (Import substitu  tion) :-सरकार द्वारा आयात को नियंत्रित करने के लिए आयात शुल्क में वृद्धि तथा अन्य उपाय किए जाते हैं, जिस पर विदेशों से प्राप्त वस्तुओं का स्थान स्वदेश निर्मित वस्तुएं ले सकें।

📚29 आयात शुल्क बाधाएं (Import duty barriers) :- सरकार द्वारा आयात पर लगाए गए कर।

📚30 आर्बिट्रेज़ (Arbitrage) :- मुद्रा बाजार में किसी मुद्रा को कम मूल्य पर खरीदा जाए और उसे तुरंत दूसरे बाजार में अधिक कीमत पर बेच दिया जाए।

📚31 अतिरेक बजट (Surplus budget) :- ऐसा बजट जिसमें सरकार द्वारा प्राप्त आय उसकी व्यय से अधिक होती है।

📚32 आनुपातिक कर (Proportionate tax) :- एक निश्चित दर से लिया जाने वाला कर जिसकी दर में कराधान घटने व बढ़ने पर कोई परिवर्तन नहीं होता है।

📚33 आर्थिक समृद्धि (Economic prosperity) :- किसी देश की अर्थव्यवस्था की उत्पादन क्षमता एवं राष्ट्रीय आय में वृद्धि।

📚34 आकस्मिक निधि (Contingency fund) :- भारतीय संविधान के अनुच्छेद 257 के अनुसार संसद द्वारा गठित एक निधि राष्ट्रपति की अनुमति से इसका उपयोग आकस्मिक घटनाओं के लिए होता है।

📚35 ऑपरेशन ट्विस्ट (Operation Twist) :- अमेरिकी केंद्रीय बैंक द्वारा शुरू की गई ऐसी योजना जिसके तहत अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए दीर्घकालिक ब्याज दरों में कमी करना।

📚36 ऑफर डॉक्यूमेंट (Offer document) :- किसी Company के पंजीकरण अधिकारी तथा स्टॉक एक्सचेंज के पास जमा वैसी विवरण पुस्तिका जिसमें पब्लिक इश्यू के लिए जारी करने वाली सभी सूचना उपलब्ध होती हैं।

आर्थिक शब्दावली – अर्थव्यवस्था

📚37 ऑडिट अकाउंट (Audit account) :- स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध प्रत्येक Company द्वारा अपना वार्षिक ऑडिट अकाउंट जारी किया जाता है इससे निवेशक निवेश से जुड़ी सभी सूचनाएं प्राप्त कर सकता है।

📚38 आर्थिक नियोजन (Economic planning) :- आर्थिक संसाधनों का मूल्यांकन करना तथा योजनाबद्ध ढंग से आर्थिक विकास का लक्ष्य निर्धारित करना आर्थिक नियोजन कहलाता है।

📚39 इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरिंग सिस्टम (Electronic clearing system) :- इसके तहत बैंकों द्वारा बिना पेपर चेक करते किसी व्यक्ति या संस्था को धन आंतरिक किया जाता है।

📚40 ई गवर्नेंस (E-governance) :- सभी सरकारी मंत्रालय एवं विभाग उनको कंप्यूटर आधारित नेटवर्क से जोड़ना, जिससे इन विभागों में गतिशीलता आपसी समन्वय तथा पारदर्शिता लाई जा सके।

📚41 डिबेंचर

यह एक ऋण का एक साधन है जिसके माध्यम से सरकार या कंपनियां धन जुटाती हैं। यह इक्विटी शेयरों से भिन्न होता है। डिबेंचर खरीदने वाला वास्तव में कर्जदाता होता है। डिबेंचर जारी करने वाली Company या संस्थान गिरवी के तौर पर कुछ नहीं रखती, खरीदार उनकी साख और प्रतिष्ठा को देखते हुए डिबेंचर खरीदते हैं। डीबेंचर जारी करने वाली Company या संस्थान कर्जदाताओं (डिबेंचर खरीदने वालों को) निश्चित ब्याज देते हैं।

कंपनियां शेयरधारकों को भले ही लाभांश नहीं दे लेकिन उसे कर्जदाताओं (डिबेंचरधारकों) को ब्याज देना ही होता है। सरकार द्वारा जारी किया जाने वाला ट्रेजरी बॉन्ड या ट्रेजरी बिल आदि भी जोखिम रहित डिबेंचर ही होते हैं क्योंकि सरकार इस प्रकार के कर्ज चुकाने के लिए कर बढ़ा सकती है या अधिक नोटों का मुद्रण कर सकती है।

आर्थिक शब्दावली – यूनियनपीडिया, अर्थ वेब विश्वकोश

महत्वपूर्ण आर्थिक शब्दावली का परिभाषा
महत्वपूर्ण आर्थिक शब्दावली का परिभाषा

📚42 ई-कॉमर्स (E-commerce) :- व्यापार और वाणिज्य क्षेत्र में लेनदेन की प्रक्रिया में सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग ई-कॉमर्स कहलाता है।

📚43 ई-चौपाल (E-chaupal) :- गांव में इंटरनेट के माध्यम से किसानों को कृषि की जानकारी बाजार की मांग विपणन एवं कृषि संबंधी नई जानकारी उपलब्ध कराता है, ई -चौपाल केंद्र की स्थापना सरकार निजी कंपनियों औद्योगिक प्रतिष्ठानों एवं स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा की जा रही है।

📚44 इकाई बैंकिंग (Unit banking) :- अमेरिका में लोकप्रिय वैसी बैंकिंग प्रणाली जो सीमित क्षेत्र अपनी कुछ शाखा या एक ही शाखा के माध्यम से अपने कार्यों का संचालन करती है।

📚45 उत्पादकता (Productivity) :- श्रम या पूंजी की दक्षता में वृद्धि से उनकी उत्पादकता में भी वृद्धि होती है, यह शब्द परिश्रम के आगात की उत्पादकता के संदर्भ में प्रयोग किया जाता है।

📚46 उपभोग समुच्चय (Consumption Basket)  :- किसी परिवार द्वारा उपयुक्त वस्तुओं सेवाओं का समूह जिसका प्रयोग जनता के उपभोग के स्वरूप का अनुमान लगाने के लिए किया जाता है, भारत में राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण संगठन उपभोग समुच्चय में 19 वस्तुएं सम्मिलित है; जैसे अनाज, दाल और दूध से बनी चीजें, खाद्य तेल, सब्जियां वस्त्रादि।

📚47 उद्यम (Enterprise) :- वस्तुओं एवं सेवाओं का उत्पादन एवं वितरण करने वाला व्यक्ति या समूह के स्वामित्व वाला उपक्रम।

📚48 ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (Bureau of energy efficiency)  :- यह अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में ऊर्जा संरक्षण को बढ़ावा देने तथा विद्युत अपव्यय को रोकने के लिए उपाय करने वाली एक सरकारी संस्था है।

📚49 उपहार कर (Gift tax) :- वह प्रत्यक्ष कर जो किसी व्यक्ति संस्था द्वारा किसी व्यक्ति या संस्था को भाग देने पर उपहार प्राप्त करता को अदा करना होता है।

📚50 उत्पादन फलन (Production function) :- किसी वस्तु का उत्पादन उत्पादन के साधनों पूंजी श्रम तकनीक भूमि उद्यमी के प्रयोग का परिणाम होता है और इन साधनों की मात्रा के बीच जो तकनीकी फलनात्मक संबंध होता है उसे उत्पादन फलन कहते हैं।

📚51 एकाधिकारी तथा प्रतिबंध कार्य व्यापार अधिनियम (Monopolies and Restrictive Trade Practices Act) (1969)  :– इस अधिनियम को व्यापारियों के एकाधिकार तथा अन्य जनहित बाधक व्यवहारिक प्रविष्टियों का नियमन करने के लिए लागू किया गया था।

📚52 एंजिल वक्र (Angel curve)  :- जर्मनी के सांख्यिकी विद्वान एंजेल द्वारा आय तथा उपभोग के बीच संबंध को दर्शाने के लिए एक वक्र का निर्माण किया गया था, इस वक्र के अनुसार जैसे-जैसे आय में वृद्धि होती है वैसे व्यक्ति भोजन पर होने वाले व्यय प्रतिशत में कमी आती है।

📚53 एमोर्टाइजेशन (Amortization) :- इसके तहत किसी ऋण के निर्धारित ब्याज का पूर्ण भुगतान किया जाता है।

आर्थिक शब्दावली पारंपरिक अर्थव्यवस्था Notes – UPSC

📚54 एम्बार्गो (Embargo) :- कोई देश है या कुछ देश मिलकर किसी विशेष देश के साथ कुछ किसी वस्तु या संपूर्ण व्यापार बंद कर देने की स्थिति तथा उपदेश के जहाजों को अपनी सीमा में प्रवेश करने पर रोक लगाना।

📚55 एंबर बॉक्स (Amber box) :- किसी देश द्वारा अपने किसानों को कृषि के क्षेत्र में प्रति बिजली उर्वरक कीटनाशक आदि प्रदान करना जिससे व्यापार में विसंगति उत्पन्न होती है।

📚56 एकाधिकार (Monopoly) :- वैसी स्थिति जब किसी वस्तु का बाजार में कोई विकल्प ना हो।

📚57 एडवांस डिक्लाइन (Advance decline) :- किसी का खास अवधि के दौरान मूल्यवृद्धि वाले शेयर एवं मूल्य हास प्रदर्शन प्रदर्शित करने वाले शेयर की संख्या का अनुपात।

📚58 अंश (Equities) :- किसी Company की चुकता पूंजी के समान मूल्यधारी अंश।

📚59 कर प्रतिकर (Cascading Effect) :- एक प्रकार का दोहरा कर है जो किसी वस्तु के किसी कर के कारण बढ़े हुए कुल मूल्य पर लगाया जाता है।

📚60 व्यावसायिक कृषि (Occupational agriculture) :- बाजार के लिए कृषि उत्पादन करना न कि व्यक्तिगत उपयोग के लिए।

महत्वपूर्ण आर्थिक शब्दावली या परिभाषा

📚61 कृषि बैंक (Agricultural bank) :- कृषि कार्य के लिए वित्त व्यवस्था करने वाला बैंक।

📚62 काला धन (Black money) : –सही या गलत तरीके से अर्जित किया हुआ वह धन जिसका लेखांकन नहीं हुआ होता था जिस पर कर नहीं दिया गया हो।

📚63 कॉल मनी (Call money) :- कोई Company शेयर जारी करते समय शेयर आवेदनकर्ता से शेयर मूल्य का भाग आवेदन पत्र के साथ ही प्राप्त कर लेती है और शेष राशि शेयरधारक से एक निश्चित तिथि तक कई किस्तों में लेती है।

📚64 कार्बन कर (Carbon tax) :- इसके तहत उन ऊर्जा स्रोतों पर कर लगाया जाता है, यह वायुमंडल कार्बन डाई ऑक्साइड उत्सर्जित कर वैश्विक तापन को बढ़ावा देते हैं।

📚65 कार्बन गहन समृद्धि (Carbon intensive Growth)  :- यह अर्थव्यवस्था की आर्थिक समृद्धि के लिए उत्सर्जित कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा के बीच आनुपातिक संबंध को व्यक्त करता है।

📚66 कार्टेल (Cartel) :- एक समान वस्तुओं का उत्पादन करने वाली दो फार्मो के बीच मूल्य बढ़ा कर अधिक मुनाफा कमाने के लिए किया गया समझौता है।

📚67 कर्ब ट्रेंडिंग (Kerb trending) :- स्टॉक एक्सचेंज मार्केट के बाहर प्रतिभूतियों की अवैध खरीद-

📚 68फरोख्त।* क्रेता बाजार (Buyer’s market) : वह स्थिति जब बाजार में मांग की तुलना में पूर्ति अधिक होती है। इससे क्रेता लाभ की स्थिति में होते हैं।

📚69 कौण्ट्रेरियन शेयर (Contrarian share) : बाजार के रूख के विपरीत दिशा में कार्य करने वाला शेयर।

📚70 कागजी सोना (Paper gold) : अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा वर्ष १९६९ में अंतरराष्ट्रीय तरलता में वृद्धि के लिए अपने सदस्य देशों की जमा परिसंपत्तियों की माप के आधार पर आनुपातिक रूप से भारांश का वितरण जो मात्र खातों में लिखी गई मात्र होती है।

आर्थिक शब्दावली की परिभाषा

📚71 क्लोजिंग स्टॉक (Closing stock) : वर्ष के अंत में विक्रय से बच जाने वाला माल।

Ncert Solutions 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here