Tax Savings Options: टैक्‍स बचाने के लिए निवेश के 5 ऑप्‍शन, मार्केट की उठापटक का रिटर्न पर नहीं होता असर

0
98

Tax Savings Options: टैक्‍स बचाने के लिए निवेश के 5 ऑप्‍शन, मार्केट की उठापटक का रिटर्न पर नहीं होता है असर, pre tax savings options, tax savings options in india, income tax savings options, tax savings options in kenya, after tax savings options, tax savings options for nri, income tax savings options 2019

Tax Savings Options: कुछ ऑप्‍शन ऐसे होते हैं, जिनके निवेश पर आप टैक्‍स छूट मिलती ही है, साथ ही आपको तय इंटरेस्ट भी मिलता है. इनमें निवेश पूरी तरह सेफ और सुरच्छित रहता है और मैच्‍योरिटी पर फिक्‍स इनकम होती है.

Tax Savings Options: अगर आप इनकम टैक्‍स बचाने के लिए निवेश करना चाहते हैं, तो आपको मार्केट में कई तरह के ऑप्‍शन मिल जाएंगे. इसमें कुछ ऐसे भी ऑप्‍शन हैं, जिनका रिटर्न पर शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव का असर होता है. वहीं पर देखा जाय तो कुछ ऑप्‍शन ऐसे भी हैं, जिनमें निवेश पर टैक्‍स डिस्काउंट मिलती ही है, साथ ही आपको फिक्‍स्‍ड इंटरेस्ट भी मिलता है. इनमें निवेश करना पूरी तरह सेफ रहता है और मैच्‍योरिटी पर फिक्‍स इनकम प्राप्त होती है. इसमें पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF), पोस्‍ट ऑफिस Time डिपॉजिट अकाउंट (POTD), नेशनल सेविंग्‍स सर्टिफिकेट्स (NSC), 5 years की टैक्‍स सेवर एफडी और सीनियर सिटीजंस सेविंग्‍स स्‍कीम (SCSC) जैसी स्‍कीम्‍स भी शामिल हैं.

Tax Savings Options: टैक्‍स बचाने के लिए निवेश के 5 ऑप्‍शन

PPF

पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) भी एक ऐसी ही स्‍कीम हैं, जिसमें लॉन्‍ग टर्म के नजरिए से अगर निवेश किया जाए तो न केवल लाखों रुपये का फंड बनेगा. बल्कि पैसा भी पूरी तरह से सेफ रहेगा और पूरी तरह टैक्‍स की बचत होगी. इसकी मैच्‍योरिटी 15 साल में होती है और इसे 5-5 के ब्‍लॉक में आगे बढ़ाया भी जा सकता है. यह अकाउंट पोस्‍ट ऑफिस या डेजिग्‍नटेड बैंक ब्रांच में खुलवाया जा सकता है. PPF में इनकम टैक्‍स एक्‍ट के सेक्शन 80C के अंतर्गत Tax बेनेफिट मिलता है. इस स्कीम में 1.5 लाख रुपया तक इन्वेस्ट का डिडक्शन लिया जा सकता है. PPF में कमाई गई इंटरेस्ट और मेच्योरिटी की राशि भी tax फ्री होती है. इस तरह पीपीफ में निवेश EEE कैटेगरी में आती है. अभी पीपीएफ पर 7.1 फीसदी सालाना इंटरेस्ट मिल रहा है.

नेशनल सेविंग्‍स सर्टिफिकेट्स (NSC)

नेशनल पोस्‍ट ऑफिस की इस small सेविंग्‍स स्‍कीम्‍स की खासियत यह है, कि इसमें निवेश की मैक्सिमम लिमिट नहीं होती है. वहीं इसमें मल्‍टीपल अकाउंट खुलवाए जा सकते हैं. NSE में डिपॉजिट पर इनकम Tax के सेक्‍शन 80C के अंतर्गत 1.5 लाख रुपया तक टैक्‍स डिडक्‍शन का भी बेनिफिट मिलता है. NSC स्कीम में अभी हर साल 6.8 % की दर से ब्याज मिल रहा है. इसे इंटरेस्ट की कम्‍पाउंडिंग सालाना आधार पर होती है लेकिन इनका भुगतान मेच्योरिटी पर ही होता है. इस स्कीम का मैच्‍योरिटी 5 ईयर का है.

पोस्‍ट ऑफिस 5 साल की डिपॉजिट

पोस्‍ट ऑफिस की 5 year की डिपॉजिट पर tax छूट का फायदा ले सकते हैं. इसमें इनकम tax के सेक्‍शन 80सी के अंतर्गत मैक्सिमम 1.5 लाख रुपया तक डिपॉजिट पर टैक्‍स डिस्काउंट लिया जा सकता है. पोस्‍ट ऑफिस में 5 year की डिपॉजिट पर 6.7 सालाना interest मिल रहा है.

बैंक टैक्‍स सेवर FDs

Banks की 5 साल की एफडी पर भी सेक्‍शन 80सी के अंतर्गत 1.5 लाख rupya तक टैक्‍स डिडक्‍शन का फायदा लिया जा सकता है. देश का सबसे बड़ा Bank SBI अभी 5 साल की टैक्‍स सेविंग्‍स एफडी पर 5.5 % सालाना ब्‍याज दे रहा है. हालांकि, मैच्‍योरिटी पर interest से होने वाली इनकम टैक्‍सेबल होती है.

सीनियर सिटीजन सेविंग स्‍कीम (SCSS)

पोस्‍ट ऑफिस की सीनियर सिटीजन सेविंग स्‍कीम (SCSS) भी फिक्‍स interest  इनकम के साथ Tax सेविंग का बेहतर ऑप्‍शन है. इन स्‍कीम की मैच्‍योरिटी 5 year है और उसे एक बार 3 year के लिए बढ़ाया जा सकता है. इसमें मैक्सिमम 15 लाख रुपया तक निवेश किया जा सकता है. सीनियर सिटीजन या जल्‍दी रिटायरमेंट लेने वाले लोग bank या पोस्‍ट ऑफिस में यह अकाउंट खुलवा सकते हैं. इनमें इनकम tax के सेक्‍शन 80C के अंतर्गत टैक्‍स 1.5 लाख रुपया तक टैक्‍स डिडक्‍शन लिया जा सकता है. पोस्‍ट ऑफिस की एससीएसएस पर अभी 7.4 % सालाना ब्‍याज मिल रहा है.

TAGS: TAX, SAVINGS, NSC, PPF, BANK, FD,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here