ITR फाइलिंग में कर दिए है गलती तो क्या करें टैक्सपेयर्स?

वित्त वर्ष 2021-22 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की आखिरी डेट 31 जुलाई 2022 थी। संभावना है कि कई टैक्सपेयर्स ने इसमें कुछ गलतियां कर दिए हों ।

31 जुलाई थी आखिरी डेट

फाइलिंग में हो सकता है गलतियां, गलत बैंक अकाउंट नंबर से लेकर गलत ब्याज आय घोषित करने तक, टैक्सपेयर्स ITR फाइलिंग में कई गलतियां कर सकते हैं।

फाइल कर सकते हैं रिवाइज्ड रिटर्न ऐसे मामलों में आपको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि आयकर कानून टैक्सपेयर्स को ऐसी त्रुटियों को सुधारने की अनुमति देता है।

क्या है रिवाइज्ड रिटर्न? रिवाइज्ड रिटर्न फाइल करने का मतलब है फिर से रिटर्न फाइल करने , लेकिन इस बार सही जानकारी के साथ। इसे दाखिल करते टाइम आपको मूल रिटर्न की जानकारी भी देनी होगी।

रिवाइज्ड ITR की आखिरी डेट वित्त वर्ष 2021-22 यानी आकलन साल  2022-23 के लिए संशोधित ITR की अंतिम तिथि 31 दिसंबर 2022 है।

कैसे फाइल करें रिवाइज्ड ITR ? इसे फाइल करने का प्रोसेस मूल ITR दाखिल करने जैसा ही है। सिर्फ करदाता को इसे आयकर अधिनियम की धारा 139(5) के तहत दाखिल करनी  होती है।

यह बात का रखें ध्यान Revised ITR फाइलिंग के लिए टैक्सपेयर्स को 'रिटर्न फाइलिंग अंडर' कॉलम में 'रिवाइज्ड u/s 139(5)' का विकल्प चुनना पड़ेगा ।

वेरिफिकेशन भी जरूरी है रिवाइज्ड आईटीआर दाखिल करने के बाद आपको यह भी सुनिश्चित करना होगा कि आपने इसे वेरिफाई कर लिया है |

कितना बार फाइल कर सकते हैं Revised ITR? टैक्सपेयर कितनी भी बार रिवाइज्ड Income Tax Return फाइल कर सकते हैं। इसकी कोई समय -सीमा नहीं है।

अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें

स्टोरी पूरा पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद