By Hari Barla

Lafarge Support IS: दिग्गज सीमेंट कंपनी Lafarge ने आतंकी समूह IS को दिया करोड़ों का फंड, बताई ये वजह, अब भरेगी 77.8 करोड़ रुपये का जुर्माना

Image Source: Google

Gyanmanchrb

फ्रांसीसी सीमेंट कंपनी लाफार्ज ने आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट को 1.7 करोड़ डॉलर देने के आरोपों को मंगलवार को स्वीकार कर लिया है .

कंपनी ने अपना पक्ष रखते हुए बोला कि उसने इस्लामिक स्टेट को यह धनराशि इसलिए दी ताकि सीरिया में एक संयंत्र चालू रह सके.

Giant Cement Company lafarge Connection with IS: फ्रांसीसी सीमेंट कंपनी लाफार्ज ने आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट को 1.7 करोड़ डॉलर देने के आरोपों को मंगलवार को स्वीकार कर लिया है .

कंपनी ने अपना पक्ष रखते हुए बोला कि उसने इस्लामिक स्टेट को यह धनराशि इसलिए दी ताकि सीरिया में एक संयंत्र चालू रह सके. न्याय विभाग ने इसे अपनी तरह का प्रथम मामला बताया है.

अमेरिकी अभियोजकों ने आरोप लगाया था कि फ्रांस की सीमेंट कंपनी लाफार्ज और इसकी सीरियाई सहायक लाफार्ज सीमेंट (Lafarge Cement) सीरिया ने बिचौलियों के माध्यम से

इस्लामिक स्टेट और अल नुसरा फ्रंट को 1.7 करोड़ डॉलर का भुगतान किया था.

यह भुगतान गृह युद्ध के दौरान किया गया . इस मामले में अमेरिकी न्याय विभाग ने लाफार्ज पर 77.8 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया था.

इस मामले में अब लाफार्ज ने जुर्माना देना स्वीकार कर लिये है. कंपनी का कहना है कि

उसने 2013 और 2014 में अपने सीरियाई सीमेंट कारखाने को चालू रखने के लिए बिचौलियों को करीब 13 मिलियन यूरो (12.8 मिलियन डॉलर) का भुगतान किया,

जब तक कि अन्य फर्मों ने उसे देश से बाहर नहीं निकाला. ये हैं अभियोजकों के आरोप

अभियोजकों ने आरोप लगाया है कि लाफार्ज ने आतंकी समूह की करतूतों पर पूरी तरह से आंख मूंदकर उसे 2013 और 2014 में मोटी रकम दी थी.

इस्लामिक स्टेट का सीरिया के बड़े हिस्से पर कब्जा था और उसके कुछ मेंबर पश्चिमी देशों के अपहृत किए गए नागरिकों को प्रताड़ित करने या उनका सिर कलम करने में शामिल था .

न्यूयॉर्क शहर की एक संघीय अदालत में आरोप तय किया गया हैं. फ्रांस के प्राधिकारियों ने भी इन आरोपों की जांच कराई  है.

हालांकि, अमेरिकी अभियोजकों ने बताया कि लाफार्ज ने आखिरकार सितंबर 2014 में सीमेंट संयंत्र को खाली कर दिया था.