मस्क ने ट्विटर डील तोड़ने की बताई एक नई वजह, जानिए अब क्या है ये मामला

Musk Twitter Deal

एलन मस्क (Elon Musk) और ट्विटर डील (Twitter Deal) का मामला एक बार फिर सुर्खियों में आया है।

विश्व के सबसे अमीर व्यक्ति मस्क ने ट्विटर डील तोड़ने के पीछे एक और बड़ा कारण बताया है।

टेस्ला के CEO मस्क ने कहा कि ट्विटर का व्हिसल ब्लोअर को पेमेंट डील को तोड़ने का बड़ा कारण है।

मस्क ने ये कहा कि ट्विटर का एक पूर्व कर्मचारी जो व्हिसल ब्लोअर बन गया था, उसे लाखों डॉलर का भुगतान किया था।

यह एक बड़ा कारण था, जिसके चलते मस्क ने ट्विटर को खरीदने की 44 अरब डॉलर की डील को रद्द कर दिया था ।

मस्क का यह बयान वॉल स्ट्रीट जर्नल( wall street journal)की एक रिपोर्ट के बाद आया है।

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्विटर ने एक विवाद के निपटारे के लिए व्हिसल ब्लोअर को 7 मिलियन डॉलर भुगतान करने का फैसला लिया है।

भुगतान से पहले नही ली सहमति

ट्विटर को लिखे एक पत्र में एलन मस्क के वकीलों ने बताया ,‘पीटर जटको (व्हिसलब्लोअर) और उनके वकीलों को 7.75 मिलियन डॉलर का भुगतान करने से पहले ट्विटर ने उनकी सहमति नहीं ली।

इससे मर्जर एग्रीमेंट का उल्लंघन हुआ हैं । जटकों को हुए 7 मिलियन डॉलर सहित इस भुगतान के कदम को ठीक नहीं किया जा सकता है ।

इस लिए मस्क के लिए इस डील को पूरा करना जरूरी नहीं थी।

फर्जी अकाउंट्स भी एक बड़ा कारण था

टेस्ला और स्पेसएक्स के सीईओ (CEO) ने एलन मस्क ने ट्विटर के साथ डील तोड़ने की घोषणा करते हुए कहा था कि ट्विटर पर ‘बॉट्स, स्पैम और फर्जी अकाउंट’ हैं,

जिस कारण उन्हें यह डील तोड़नी पड़ रही है। मस्क ने मंगलवार को यह भी कहा था कि उनके ट्वीट पर 90 % कमेंट्स असल में बॉट या स्पैम रिप्लाई हैं।

डील तोड़ने के पीछे बताया था इंडिया कनेक्शन

इससे पहले एलन मस्क ने ट्विटर डील तोड़ने के पीछे इंडिया कनेक्शन का भी जिक्र किया था।

उन्होंने कोर्ट को बताया था कि ट्विटर भारत सरकार के खिलाफ जोखिम भरा मुकदमे का खुलासा करने में विफल रही।

मस्क ने साथ ही यह दावा भी किया गया कि ट्विटर ने भारत सरकार के खिलाफ जाकर दुनिया के तीसरे सबसे बड़े बाजार को खतरे में डाल दिया था।